This fundraiser is in an urgent need of funds

ambulance-bell-ring-icon-png-picture-430

Cow is Our Mother, Can't we Save Her & Other Animals Life?

1/2
credit_card_pay_payment_money-09-512.png
images (3).png

All Credit &

Debit Cards

Net

Banking

1200px-UPI-Logo-vector.svg.png

Paytm

& UPI

Goal
₹50,00,000

About the Fundraiser

My name is Amarjeet Bharti. Friends, today we are talking about Suryoday India (Human, Child Education & Health Help Foundation). Suryoday India also serves human beings. But when it comes to animals, everyone backtracks. There Suryoday India reaches out with her team to help the unruly animals.


The whole country is troubled in this scourge of Covid-19, people are unable to take care of themselves, and then who asks the animals. Suryoday India visits sick dogs in the village, mohllas and treats them to the doctor and treats them and also provides them food so that their lives can also be saved. Along with that, they also eat and drink food.
Now we are talking about the animal whose milk we are drinking. But when that cow or buffalo comes to that stage of age. When she is stops milking. People throw him out of the house or sell him in Slaughter house where he is murdered. The question is that the cow to whom we give the title of mother. Leave him to die.


When such animals walking, crops are damaged of field and people get upset and attack those animals. In this way, those animals are looked after and medicine is arranged by Suryoday India. So that could also be looked after.
Friends, Suryoday India is able to do this work with the help of people like you. But due to lack of funds, this system is not able to run smoothly. Suryoday India wants you to help so that a good arrangement can be made for these animals to live so that they can be protected from rain, cold and summer. By constructing a huge cowshed where thousands of animals can be well looked after.


These animals will help you in one way or the other. It’s your turn now. Please help them openly. They cannot say their grief to anyone, but we can feel it.


Suryoday India has taken a resolution to look after old people, to take care of children, animals, marriage the young girls of the helpless, needy, financially weak families and monetary help to the Martyr's families. So, please come forward and step towards with us, So that we will get rise the sun in all needy people's life.

Thank you.

मेरा नाम अमरजीत भारती है। दोस्तो आज हम बात कर रहे है। सूर्योदय इण्डिया (मानव, बाल शिक्षा स्वास्थ्य सहायता फाॅउडेशन) की। सूर्योदय इण्डिया ने मानव की सेवा तो करता ही है। मगर जब बात आती है जानवरो की तब सब लोग पिछे हट जाते है। वहां सूर्योदय इण्डिया अपने टिम के साथ बेजुब़ान जानवरों की मदद के लिए पहुॅच जाती है। 


कोबिड-19 के इस माहामारी में पूरा देश परेशान है, लोग अपनी देख रेख नहीं कर पा रहें हैं तो जानवरो को कौन पूछता है। सूर्योदय इण्डिया गांव मोहल्लों में जाकर बिमार कुत्तों को डाक्टर के पास ले जाकर उनका ईलाज़ करवाती है और उन्हें भोजन की व्योस्था भी करती हैं ताकी उनकी भी जान बच सके। साथ ही उनका खाना पिना और देख रेख भी करती है। 


अब हम बात कर रहें है उस जानवर की जिसका दूध हम लोग पिते है। मगर जब वह गाय या भैंस उम्र के उस पड़ाव पे आ जाती है। जब वह दूध देना बंद कर देती है। लोग उसे घर से निकाल देते है या उसे बुचडखाना में बेच देते है जहां उनकी हत्या कर दी जाती है। सवाल ये है कि जिस गाय को हम माता होने की उपाधि देते है। उसे ही मरने के लिए छोड देते है। 


जब एैसे जानवर खुल्ला घुमते है तो फसलों को नुकसान पहुचातें है। और लोग परेशान हो कर उन जानवरों को मारते है। एैसे में उन जानवरों की देख रेख और दवा भोजन की व्योस्था सूर्योदय इण्डिया करती है। ताकी उनकी भी देख रेख हो सके। 


दोस्तो सूर्योदय इण्डिया आप जैसे लोगों की मदद से यह कार्य कर पाती है। लेकिन धन की कमी के कारण यह व्योस्था सुचारू रूप से नहीं चल पाती है। सूर्योदय इण्डिया  चाहती है कि आप लोग मदद करें ताकी इन जानवरों के रहने के लिए एक अच्छी व्योस्था की जा सके ताकी बारीश, सर्दी और गर्मी से उन्हें बचाया जा सके। एक बहुत बड़ा गौशाला बनाकर जहां हजारों जनवरों की अच्छी तरह से देख रेख हो सके। 


ये जानवर किसी न किसी रूप में आप की मदद की होगी। अब आप की बारी है। आप खुल कर इनकी मदद करें। ये अपना दुख किसी से कह नहीं सकतें मगर हम तो महसूस कर सकते है।


धन्यवाद।

Share