Our Mission 

 

दोस्तों हमारे आस पास बहुत से ऐसे लाचार, बेसहारा लोग हैं जो परेशान हैं, हम उनके जीवन में उजाला भरके खुशिया ला सकते हैं। कभी आप ने सोचा है कि जो कुछ लोग अपने मां-बाप को घर से निकाल देते हैं या किसी दम्पत्ति को बच्चे नहीं होते, वे उम्र के उस पड़ाव पे आ जाते हैं कि कुछ काम भी नहीं कर सकते, वे इंसान जो अपने बच्चों और लोगों को सहारा देते आए हैं, आज वह बेसहारा हो गए हैं. दोस्तों हमें इन्हें सहारा देना है इनके जीवन में सूर्योदय लाना है वृद्ध आश्रम खोलकर, जहां इन्हें सारी सुख सुविधाएं मिल सकें, एक नया परिवार मिल सके और इनका इलाज देख रेख भी हो सके।

Friends, There are so many people around us who are financially very weak, tensed in critical problems. Some people have thrown their parents from their own home, or some don't have their children, are reached at critical miserable conditions, who can't earn their bread and butter. Now imagine the condition of those people who were the strongest pillar of their family but now are struggling for their own bread and butter. Friends we have to help those people, serve the necessities for their lives, will care take and start live like a new family.

सूर्योदय इण्डिया बाल व  वृद्ध आश्रम

SURYODAY INDIA CHILD & OLD AGE HOME

 

चिकित्सा संघर्ष सहायता

MEDICAL FIGHT HELP

दोस्तों, बीमारी बड़े-बड़ों को तोड़ के रख देती है, तो सोच के देखिए, फिर लाचार लोगों का क्या होता होगा। आपने ये देखा होगा कि कैंसर, एड्स, बोनमेरो, ब्रेन हेमे्रज, हार्ट अटैक, किडनी खराब, मोतिया बिन्द, टीबी और एक्सीडेंट जैसे खतरनाक बीमारी या दुर्घटना के शिकार, लाचार लोग, पैसे की कमी के कारण नहीं झेल पाते और अपने लोगों को खो देते हैं। हमें इनके जीवन में सूर्योदय लाना होगा, इनकी मदद करके, इनकी जान बचा कर। 

The Treatment of serious diseases Cancer, AIDS, Bonmero transplant, Brain Hemorrhage, heart attack, Kidney failure or transplant, Motia Bind, TB or Any serious Accidents broke the family Mentally, physically and Financially too. Sometimes family thrown the old age ill person on road at their fate, we have to look after those people and serve free treatments in Suryoday India's hospital. 

 

सूर्योदय इण्डिया पैरामेडिकल कॉलेज एंड हॉस्पिटल 

SURYODAY INDIA PARAMEDICAL COLLEGE AND HOSPITAL

दोस्तों आपने देखा होगा कि हमारे आसपास बहुत से गरीब, लाचार, विक्लांग लोग छोटी-छोटी बीमारियों से परेशान होते हैं जो डाक्टरों के बिल नहीं दे पाते. कुछ ऐसे लोग हैं जो असाध्य रोग से पीड़ित होते हैं, अथवा अपने रोग के कारण स्वयं की दिनचर्या भी नहीं कर पाते और परिवार वाले तंग हो कर, उन्हें रास्ते पर छोड़ देेते हैं. ऐसे लोगों के लिए जीवन जीने का अर्थ ही शेश नहीं रह जाता. इसी तरह के लाचार असहाय लोगों के लिए हम अस्पताल खोल कर उनके जीवन में सूर्योदय लाना चाहते हैं उन लोगों का मुफ्त इलाज करके। 

We have seen so many people around us who are so much financially weak that they can't even pay the bills of Doctors for their treatments. Some of them are so weak due to their critical diseases, even can't do their natural daily routine their selves therefore, thrown out from their home. We have to open the Hospitals to treat them, have to help by providing free treatments. So that we will get rise the sun in their lives.

 

जिस तरह बड़े घर के बच्चे अच्छी से अच्छी शिक्षा व परवरिश पाते हैं, डांक्टर इंजीनियर बनते हैं, लेकिन, गरीब, लाचार के पास पैसे की कमी है वे अपने बच्चों को अच्छी परवरिश नहीं दे पाते, न ही अच्छी शिक्षा दे पाते हैं, जबकि उसके बच्चे में भी अच्छे गुण और हुनर होते हैं. ऐसे बच्चों के जीवन में शिक्षा का, नवजीवन का सूर्योदय लाना होगा, एक विश्वस्तरीय आवासीय स्कूल की स्थापना करके, जहां पर मुफ्त शिक्षा, रहना, खाना-पीना और अच्छी परवरिश प्रदान कर, उन्हें देश का एक अच्छा नागरीक बनाया जा सके। 

The children of financially Sound houses get so much facilities in their lives and get chances to better study, better livelihood than the Financially weak children. No doubt the children of the family from financially weak are also as much intelligent as the children of financially sound families. We have to open the International standard Residential School to help those intelligent students of financially weak houses. From where they get Free study, food and staying facilities so that he/she will get a chance to be a Good Indian Citizen and serve for the country.

सूर्योदय इण्डिया ग्लोबल आवासीय  विद्यालय

SURYODAY  INDIA GLOBAL RESIDENTIAL SCHOOL

सूर्योदय इण्डिया ग्लोबल स्कूल 

SURYODAY INDIA GLOBAL SCHOOL

 

उच्चस्तरीय शिक्षा में सहायता

HELP IN HIGHER EDUCATION

कई बार हम लोग सुनते है कि एक गरीब, लाचार का बच्चा पढ़ने में बड़ा तेज़ था वह डाॅक्टर व इंजीनियर बनना चाहता था उसने प्रवेश-परीक्षा उर्तीण कर ली, मगर घरवालों के पास इतने पैसे नहीं थे कि मनचाहे विशय में दाखिला दिला सकें, हमें इस तरह के बच्चों के जीवन में सूर्योदय लाना होगा। उनकी उच्च शिक्षा लेने में मदद करके, ताकि वह भी अपने गांव व देश का नाम रोशन कर सके। और समाज व देश की तरक्की में भागीदार बन सके।  

We hear sometimes that the child clears the entrance exam of higher study but he can't get admission in the same course because of the scarcity of Money. We have to help these types of intelligent students so that he/she can get a better future and make feel proud and help in the progress of his/her village and country. 

 

गरीब लड़कियों की शादी में सहायता

HELP IN MARRIAGE OF POOR GIRLS

एक गरीब, लाचार किसान के लिए उसकी बेटी का बड़ा होना एक अभिशाप की तरह हो जाता है. उसे हर पल अपनी बेटी के विवाह का डर सताता रहता है. विवाह के लिए उसे कर्ज लेना पड़ता है और कर्ज की मार से दब जाता है। और अगर उसकी एक नहीं, दो या उससे अधिक बेटियां हुई तो उसकी दयनीय परिस्थिति का आप अंदाजा लगा ही सकते हैं. हमें ऐसे किसानों के जीवन में सूर्योदय लाना है, इनकी बेटियों की शादी कराने में मदद करके।

It is very sad to hear this, but it is true that a young daughter of a financially weak farmer is always like a matter of curse.  The farmer is always worried about the marriage of his young daughter. And if he has 2 or more then 2 daughters will be a miserable condition. We have to help these farmers by donating some money and gifts. 

 

कर्ज से परेशान  किसान की सहायता

SAVE & HELP IN FORMER'S OF LOAN

हमारे देश में कुछ ऐसे लोग भी हैं जो अरबों-करोड़ों का बैंकों से कर्ज लेकर अपने को दिवालिया घोशित कर देते हैं या भाग जाते है। वहीं एक किसान सिर्फ दस हजार का कर्ज नहीं भर पाता और आत्महत्या करने को विवश हो जाता है। किसान हमारे देश की शान व अन्नदाता है, हमें इन्हें सहजेना, संभालना है। यह हमारे देश का दुर्भाग्य है. हमें किसानों को कर्ज मुक्त कराकर इनके जीवन में सूर्योदय लाना होगा। 

We generally hear about the people who fraud in millions with banks and flown away from the country. In the same country, there are so many farmers who have not in a condition to repay the loan of a little sum of money and forced to live miserable lives.

 

अब हम बात करेंगे अपने रक्षकों की, जो हमारे देश के बार्डर पर तैनात हैं। हम लोग उन रक्षक सैनिकों के वज़ह से सुरक्षित हैं और दूसरी ओर देश के भीतर हमारे पुलिस भाईयों के कारण चोरी डकैती जैसे क्राइम से सुरक्षित है और हम चैंन की नींद सो पाते हैं। ये हमारे लिए बहुत कुछ करते हैं, लेकिन  अगर ये शहिद हो जाते हैं तो क्या होता है इनके परिवार वालों का? कभी आपने सोचा है? हमें इनकी मदद करके इनके परिवार के जीवन में सूर्योदय लाना होगा। 

Now we will talk about our soldiers and police, who save us from the outer and inner bad aliments of the Crime of the country. We sleep sound because of their good services. But what happened to the family of a soldier and a Policeman when he has died while serving the country. Yes, of course, Govt. do for the survival of their family But we feel that Suryoday India will have to do for those Martyr's families. We have to help them by offering jobs and money from Suryoday India and will get rise the sun in their lives.

शहीद सैनिक व पुलिस परिवार की सहायता

HELP IN MARTYR SOLDIER & POLICE FAMILY

 

दोस्तों अब हम उस शक्ति के बारे में बात करते हैं जिसे दुनिया सलाम करती है। वह हम सब का सहयोग कई रूपों में करती है। कही माँ बन कर लालन पालन करती है, कहीं बहन व बेटी बनकर सर ऊंचा करती है, तो कहीं पत्नी बनकर, कदम से कदम मिलाकर साथ देती है, ऐसी सभी ‘‘महिलाओं’’ को हम शत्शत् प्रणाम करते हैं। किसी ने सोचा है सबसे ज्यादा इन्हें ही दुनिया की मार सहनी पड़ती है, कभी ससुराल में तो कभी मायका में. कितना कष्ट व दुःख झेलना पड़ता है। हमें इनके जीवन में सूर्योदय लाना होगा। इन्हें मज़बूत बनाना होगा। इन्हें अपने पैरो पर खड़ा करना है। ये हम सबकी व देश की शान है। 


इन्हें सिलाई, बुनाई, कढ़ाई, कम्प्यूटर, ब्यूटी पार्लर जैसे मुफ्त शिक्षा (कोर्स) करा कर, देश के विकास में भागीदार बनाना होगा। इन्हें रोजगार उपलब्ध कराकर खुद के पैरों पर खड़ा करना होगा। 

Now we are talking about the Power of Female, who is present everywhere as a mother, sister, as a wife and doing her best services in all odds of life for the family. We salute her because she is pride in our lives but sorry to say that she lives in a very miserable condition in our society and families. Nobody cares about her services even ignores her sacrifices. We will have to support the female power to give them free vocation training and jobs so that she should be strong by financially. She will help in progress the country.

महिला प्रशिक्षण व नौकरियों में सहायता

HELP IN WOMAN'S TRAINING & JOBS

बेरोजगार व प्रतिभाशाली व्यक्तियों को नौकरियों में सहायता

HELP IN PLACEMENT OF UNEMPLOYED  & TALENT PERSON

 

और अंत में हम बात करते हैं देश की अहम समस्या नौजवानों की ‘‘बेरोजगारी’’ पर। हमारा देश बेरोगारी की मार से परेशान है नौजवान पढ़ लिख कर इधर उधर रोजगार के लिए भटक रहे हैं। प्राईवेट कंपनियों में भी नौकरी पाना, सरकारी नौकरी पाने के बराबर हो गया है, हर जगह मारा-मारी है। इनके जीवन में भी सूर्योदय लाना होगा। 
आपने कभी ये सोचा है कि अगर हम इतनें सारे काम कर रहें है तो हमें भी हेल्पिंग हैंड की जरूरत पड़ेगी। बिल्कुल पडे़गी इस ‘‘सूर्योदय इण्डिया’’ के द्वारा सैकड़ों नहीं हजारों लोगों सहायता मिलेगी। ये वादा है मेरा आप लोगों से, बस आप सबका सहयोग ही आपको मुसीबत से बचाएगा। 

Last and not least we talk about those youngsters, who are unemployed. Unemployment is a very big problem. Literate young people are searching for jobs. It is very difficult to get a job according to their qualifications, Not only in Government but also in Private Sectors. We will get rise the sun in their lives too.
Do you ever think that we are doing so much work without helping hands? No, not at all! We also need so much helping hands, like you people. And Suryoday India will help not only to hundreds of people but also to thousands of people. And this is our promise you that we will definitely achieve the target but only when you join your hands with us.

सूर्योदय इण्डिया गौशाला

SURYODAY INDIA COWSHED

अब हम बात कर रहें है उस जानवर की जिसका दूध हम लोग पिते है। मगर जब वह गाय या भैंस उम्र के उस पड़ाव पे आ जाती है। जब वह दूध देना बंद कर देती है। लोग उसे घर से निकाल देते है या उसे बुचडखाना में बेच देते है जहां उनकी हत्या कर दी जाती है। सवाल ये है कि जिस गाय को हम माता होने की उपाधि देते है। उसे ही मरने के लिए छोड देते है। 

जब एैसे जानवर खुल्ला घुमते है तो फसलों को नुकसान पहुचातें है। और लोग परेशान हो कर उन जानवरों को मारते है। एैसे में उन जानवरों की देख रेख और दवा भोजन की व्योस्था सूर्योदय इण्डिया करती है। ताकी उनकी भी देख रेख हो सके। 
 

Now we are talking about the animal whose milk we are drinking. But when that cow or buffalo comes to that stage of age. When she is stops milking. People throw him out of the house or sell him in Slaughter house where he is murdered. The question is that the cow to whom we give the title of mother. Leave him to die.

When such animals walking, crops are damaged of field and people get upset and attack those animals. In this way, those animals are looked after and medicine is arranged by Suryoday India. So that could also be looked after.